Saturday, October 15, 2016

Values

Beautiful lies, convenient questions,
self praise, mutual admiration - values of time!
We are all winners!
Winners take it all and losers move on!
That's about life and life is beautiful.
Sincerity  at sale and impact on offer,
we borrow credit, not always known to lenders.
We help others, if it is for us - values of time!
Planned surprises and only pleasant,
Enough opportunities for opportunists,
life is not fair but then who says it is!   

ज्ञान !

दुखी छी कि खुशी छी
बड मुश्किल अछि इ बुझनाई
क्खनो लगै य किछु छुटी गेल,
आ कखनो लगईय भेनैह गेल।
बड लोग अछम्भित भेल, गामक गाम अवाक भ गेल
ककरो नोर नै खसलै, मुँह खुललै मुदा करेज नै फटलै।
बाद में सोचलई, धीरे धीरे भजीयेलीयै,
मनुखक़ शोक दु तरह्क होति अछि - एकटा त समजिक आ एकटा व्यक्तिगत्।
सामाजिक दुखक एकटा पह्लु सेहौ बुझलौँ,
जे सबहक़ शोक से ककरो नै।
तँय लग़ैऽय जे अवाक त सब भेल मुदा अवाके टा भेल,
के अपन के आन सब खालि झुठक़ बखान।
तहन, बुझीयो क की करबै, ककरा क़हबै आ की की कहवै।
तहन त हम अपसीयाँत, जे झाँपल भात झपले खाई,
मुदा तुलसी अहि सन्सार में भाँति भाँति के लोग, ऑ
तथाकथित शुभचिंक सब लगला, खोंइचा उदारऽ।
पुरा प्रक्रन में एकटा बात ऑर सिखलऔं जे, मोनक बात मोने राखी,
कियो किछ्हु कहय मुदा ख़ुशी छी की दुख़ी छी से नै वाज़ी

Thursday, July 7, 2016

Destiny

पत्ते झड़ रहे हैं और किरणें जो पेड़ो के पत्तों से छन के आती थी वो अब किरणों की तरह नही आती
पूरा सॉफ सॉफ दिखता है और वो छोटे छोटे कन अब उन किरणों में दिखाई नही देते
शुरू शुरू में कुछ पत्ते टूटकर जब ज़मीन पर गिरे तो ये कोई बड़ी बात ना लगी
टूटे हुए पत्तों को उठाया और फिर चूल्‍हे में डाल दिया
सूखे पत्ते तो बड़ी तेज लहक में जलते थे और बड़ा मज़ा आता था उनकी तेज आग देखकर
मगर जब हरे पत्ते को आग में डालना पड़ता था तो बहुत धुआँ उठता था
आंकों में आसू आ जाते और हाथ को पंखा बनाकर उस धुएें का मुख मोड़ने की कोशिस करते थे
खैर पत्ते ही थे, जल ही जाते थे
धीरे धीरे जब नीचे के डाल के पत्ते गिरने लगे और किरणों की वो कतारें गायब होने लगी तो थोड़ी सी चुभन हुई
लगने लगा की शायद ये गायब ही ना हो जायें, कहीं वो छन छन कर आने वाली किरणें विलुप्त ना हो जाए.
प्रकाश तो फिर भी आएगा, उज़ला तो वैसा ही होगा मगर फिर भी एक दर बैठने लगा
धीरे धीरे वो काल्पनिक भय एक स्थाई स्वरूप लेने लगा
चन्द बरसों में मन नें मान लिया की किरणें तो गायब हो जाएँगी
अब कितना सोचो, सोचने में क्या रखा है. 

Friday, May 27, 2016

Badlaab

वो कहतें हैं कि देश बदल गया और दशाएं बदल गई
देश और दशा का तो नहीं मालूम नहीं मगर दिशाएं जरूर बदल गयीं
हवाओं ने रुख मोड़ लिए और मौसम मनो खो से गए
सालों भर बसंत सा आ गया जिसका प्रमाण कमरों में रखे फूलों से आती है
बगीचे के फूल तो अब खिलते ही नहीं और अगर कहीं खिल भी जाएँ तो उहें पहचाने कौन !
गरीबों को गर्मी पसंद आती थी मगर गरीब तो कहीं रहे ही नही अगर बचे भी हों तो कहने में शर्म सी आती है।
बहुत बदल गया काफी कुछ बदल गया।
शहर की बत्तियों पर अब भीख नहीं मिलता क्यूँकी लोगों ने समझ लिया है की ये भिखमंगे फायदा उठा रहे हैं ,
भीख मांगना गैर क़ानूनी तो पहले से था मगर अब लोगों को बात समझ में आने लगी है।
जिसके भावनाओं को मिटा ना सके उसके अस्तित्व को ही मिटा दिया।
आखिर बदलाब तो लाना ही था और बदलाब में कुछ तो बदलेगा।
प्रजातांत्रिक परंपरा व्यवस्था को दीर्घायु भले ही कर दे मगर शाशकों के लिए तो अल्पायु ही लाती है ,
इतिहास ही नहीं वर्तमान भी गवाह है अब तो की मध्यमवर्गीय समाज ना तो इसका होता है ना ही उसका,
उसके लिए तो बस अर्थ का ही अर्थ रह गया है , और अब तो ये बात विकसित समाज की सूचक हो गयी है।
बदलाब के सूत्रधारों ने इस मध्यम वर्ग का साथ लेकर उपभोक्तावादी व्यवस्था को  लोकतंत्र का जामा पहनाया है,
सारे बदलाब हो गए हैं अब तो, बस शाशन की निरंतरता कायम होनी है।
भोजन बस्त्र और आवास ये सब प्राचीन बातें हैं, अब तो visa, net और exchange rate का ही कष्ट रह गया है।
पडोसी जाने ना जाने मगर विदेशी जरुर पहचाने लगे हैं हम सबको।
बदलाब  जो आया है, बदलना तो पड़ेगा ही।
बीते दिनों की बातें भी बेमानी जान पड़ती हैं, कुछ लब्ज निकल भी जाएँ तो शर्मिंदगी सी होती है ,
वो सभाओं में पूछते हैं  'बदला की नहीं बदला' और "बदला" के नारों से गगन गुंजायमान हो जाता है ,
ध्वनि तरंगें  प्रकाश पर अपने विजयश्री की उद्घोषणा करते हैं ,
कल्पनारूपी ज्ञप्ति प्रमाणिक सत्य पर अपनी श्रेष्ठता साबित करती है।
असहमति पिछड़ेपन की निशानी मात्र रह गयी है।
बदलाब जो आया है , बदलाब जो आया है।

Monday, May 2, 2016

Drinking

Maa, do you remember the guy who used to drink so much. Which guy? The guy who drank on his wedding day.. He was so drunk that they could not even make him sit properly on wedding chair. Oh! Yes. Is he still alive, its almost 15 years. Oh my God, you still remember him. Yes, I remembered him! Yes he is alive but he does not drink so much now. Why what happened. Once he dropped his new born daughter and the child became handicapped, he stopped drinking since then. Really? Yes!

Illegal

A child standing in the middle of the road, amidst the vehicles. She knocks on the car window and says "please buy this balloon"! Someone turns the face. "Please buy, will give you one free" says the girl. Child inside the car asks "who are these kids and why are they selling these balloon?" "They are beggars and need money?" "Please give some money, will eat some food", this time the voice is louder to ensure it penetrates the sound proof car window. "why don't we give them some money". "We cannot - begging is illegal"! "Green light, green light what do you....sings the kid and the car moves!!!!!" 

Saturday, February 13, 2016

Faith

My country,
Her lands are barely surviving, soil devoid of fertility
Some covered with buildings and others with pesticides
Rivers are dying and glaciers melting irreversible
Water that was once given as last drop for salvation
Is crying for its last drop !
I just don’t love my country!!!
I love my countrymen!
I love what is there – alive, breathing and looking with hope
My country was never a piece of land, she never had a boundary
She was always a concept and I still love that concept.
Bloody farce nationalists have made it a piece of boundary
People who don’t even have an idea how invaluable this concept is
Are trying to project themselves as its protectorate!
We can hide the filth but someone will have to clean it someday
We can deny the discrimination but someone will have to pay the price
We can ignore the hunger but can we send the hungry to gas chambers
How can I love my country?
We can broaden the road but what’s about our people who are sleeping on roadside
Someone can crush them under tyres and walk free
An abusive word in movie is against national culture but
Kids begging on the roads and busts visible from torn clothes
are national pride!
Here millions wait for days to get a bucket of water
while some wash not just the car but even the tyres with drinking water!
Forget about morality even legality is ignored!
Someone runs AC at 16 in summer and need a blanket
Others are fanning away the heat under the open sky!  
These hypocrite nation lovers!
They form societies want to save the city and the nation
But a different nation! And,
I cannot love that nation!
Millions are without roof, without proper clothes,
They have to sell land to get loved ones treated
Hospitals don’t have doctors, beds and nurses
Schools don’t have buildings and teachers
But we are making a Digital India!
I just cannot love this digital India!
It is such a fraud, such a farce!
Fire of hunger cannot be subsided by national pride
Plight of poor cannot be comforted by foreign reserve
Pain of getting a rail ticket is much times bigger than Visa hassle
Sobbing sound of army widows are more important than
Cheering crowed gathered inside random stadiums
How can I love the country until my fellow countrymen are fighting for a piece of bread!
This is not about one right now or the one in the past
This is just about a "concept" of a country!
My country was always a concept and will remain a concept! 
And I know there are enough believers to keep the faith going!!!